‘सिद्धु गुस्से’ वाला…मथे उत्ते वट्ट ते मारदा 10 हजार दी सट्ट…

जालन्धर (लखबीर)

लो जी कर लो गल्ल… जित्थे इक पासे पूरे पंजाब च पंजाबी सिंगर सिद्धु मूसेवाला छाया होया है, ओधर दूजे पासे जिले च भी इक ‘सिद्धु गुस्से वाले’ ने पूरा कहर मचाया होया है। सिद्धु मूसेवाला तां शायद महीने च 5-6 बार ही स्टेजां लुट के बोरे भरदा होवेगा पर साडा इह ‘सिद्धु गुस्से वाला’ लोकां नूं लुट के रोजाना ही बूरे भरदा आ रेहा है। कौन है यह ‘सिद्धु गुस्से वाला’ ते की-की करदा है अते इसनूं ‘सिद्धु गुस्से वाला’ क्यों केहा जांदा है…इस बारे थोड़ा जिहा चानण पाउण दा यत्न कीता जा रेहा है…

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

क्यों केहंदे ने इसनूं ‘सिद्धु गुस्से वाला’…

इस नूं ‘सिद्धु गुस्से वाला’ लोक इस लई कहेंदे ने क्योंकि इसदे मूंह ते हासा सिर्फ वैसाखी वाले दिन ही देखन नूं मिलदा है। हमेशा कम्म करवाउण आए लोकां नाल इस तरह गल्ल करदा है कि जिवें उह इस कोलों कम्म करवाउण नहीं बल्कि कर्जा लैण आए होण। जिस कारण इसनूं सिद्धु गुस्से वाले दा खिताब दित्ता गया है। वैसे दस्स दयीए कि इसदी कास्ट वगैरा सिद्धु नहीं है पर लोक इसनूं प्यार नाल ‘सिद्धु गुस्से वाला’ कहेंदे ने।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

मथे उत्ते वट्ट ते 10 हजार दी मारदा सट्ट…

लो जी, कर लो गल्ल… इह ‘सिद्धु गुस्से वाला’ जिथे इक पासे लोकां नूं शरेआम दस-दस हजार दी सट्ट मारदा आ रेहा है। उथे दूजे पासे इसदे मत्थे ते हमेशा वट्ट ही पए रेहंदे ने। जे लोकां दी मन्निए तां ‘सिद्धु गुस्से वाले’ दे मत्थे ते इह वट्ट तां कदे जाणे ही नहीं हन चाहे रोज इह 10 बोरे ही क्यों ना भर के घर लै जावे।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

इन्सानां नाल गुस्सा पर जानवरां नाल…

‘सिद्धु गुस्से वाला’ चाहे इन्सानां नाल जिन्ना मरजी गुस्सा कर लवे पर इह जानवरां खास करके घोड़ियां नाल बोत प्यार करदा है। इसदा जानवरां नाल प्यार देखके तां बोत सरे लोक हैरान हो जांदे हन पर जदों उहनां नूं जानवरां नाल प्यार संबंधी पर्दे दे पिछे वाली फिल्म दिसदी है तां फिर इसनूं फिर तों व्यापारी ही कहन लग पैंदे ने।

Leave a Reply

error: Content is protected !!