बुड्डा कुआरा कलर्क होया हाईलाइट… खुद करदा माया दे दर्शन ते…

जालन्धर (लखबीर)

वैसे तां बहुत सारे विभाग किसे न किसे कारण चर्चा च बन ही जांदे हन अते कई बार कुज अधिकारियां जां मुलाजमां कारण भी कई दफ्तर हाईलाइट हो जांदे हन। इसे तरां जिले दा मलाईदार विभाग इक मुलाजम करके हाईलाइट हो रेहा है। जी हां, एह कोई होर मुलाजम नहीं बल्कि वड्डी उमर दा कुआरा कलर्क है ते इस कलर्क ने किन्नी अत्त चुक्की होई है, इह सब लोकां दे सामने ही है। हुण गल्ल करदे हां मुद्दे दी…

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

आपनी जगह किसे होर नू बैठाया…

इह बुड्डा हो चुक्का कुआरा कलर्क शुरू तों ही गोटियां फिट करन च मशहूर है। इह कलर्क इन्नियां गोटियां फिट करदा आ चुका है कि इसदी खूब बदनामी हो चुकी है। ताजा मामले अनुसार अज कल्ल इसने आपनी सीट ते किसे प्राइवेट मुंडे नू बिराजमान कीता होया है क्योंकि इसनूं कम्पयूटर दा धेला भी नहीं आउंदा। आपनी सीट ते प्राइवेट मुंडे नू बिठाके खुद माया दे दर्शन करन च ही बिजी रहेंदा है। इस संबंधी जल्दी ही सीनियर अधिकारियां नूं सूचित कीते जाण दी तैयारी कीती गई है। इसदी अजिही करतूत नूं कोल बैठा अधिकारी भी सिर्फ देखन तक सीमत है, उसने भी कदे प्राइवेट मुंडे नूं उठाउण दी जिम्मेवारी नहीं समझी। लोकां दी मन्नी जावे तां अधिकारी भी इस बुड्डे कुआरे कलर्क नाल रल्लिया होया है।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

शहर छड्डण तों बाद लोकां ने वंडे लड्डू…

दस्स दईये के इह कुआरा बुड्डा कलर्क जदों भी जालन्धर च ड्यूटी ते रेहा, इसने आपनियां चम्म दीयां ही चलाईयां सन, जिस कारण इसदी जालन्धर चों छुट्टी होण तों बाद लोकां ने लड्डू वंड के खुशी मनाई सी। इस बुड्डे कुआरे कलर्क दी लोकां नू तंग करन दी आदत बारे जदों अधिकारियां नूं पता चलिया तां उहनां ने इसदी सीट तां की इसनूं ही शहर तों दूर कर दित्ता सी पर कई सालां बाद फिर चंडीगड़ तक गोटियां फिट करके इह वापस आ गया ते इसने फिर आपने कारनामियां नूं अंजाम देना शुरू कर दित्ता है।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

आपने आप नूं समझदा अफसर तों उपर…

सारा दिन टपूसियां मारन वाला इह कुआरा बुड्डा कलर्क इन्ना आकड़खोरा है कि उह आपने आप नूं अफसर तों किते वद्ध समझदा है। पहलां भी आपनियां इहनां हरकतां कारण कई बार बेजत्ती करवा चुके कलर्क नू कदे शर्म नहीं आउंदी ते उह अफसर सामने ही बिना किसे गल्ल तों कम्म करवाउण वालियां नूं झाड़ दिंदा है ते अफसर सिर्फ मूर्ती बनके बैठा रेहंदा है।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

शाम किसे होर दफतर च काली कमाई दा हिसाब…

पूरा दिन किसे न किसे तरह ठगियां मारन वाला इह बुड्डा कुआरा कलर्क शाम नूं आपनी काली कमाई दा हिसाब आपने दफतर तों बाहर बिल्लू बक्करे दे दफ्तर च करदा है। इह बिल्लू बक्करा भी इसदी काली कमाई च लम्बे समय तों सहाई बनदा आ रहा है। शाम नूं बिल्लू दे दफतर च ही काली कमाई दी वंड हुंदी है। इसदी कहानी अजे बाकी है…. काले कलर्क ते गौरे प्राइवेट करिंदे दी भी दस्सांगे पूरी लुट्ट दी गल्ल…

Leave a Reply

error: Content is protected !!