गुस्ताखी माफ! पर सच्च है… जिले दा इक आरसी जिसदे नां दर्ज हन दफतरां चों धक्के खा के बाहर निकलन दे रिकार्ड

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

भ्रष्टाचार फैलाउण कारन कीती जा चुकी है इसदी ऐंट्री बैन… अजकल जालन्धर च निभा रेहा ड्यूटी

पढ़ें कौन है ये महारथी तथा क्या हैं इसके मामले…

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

जालन्धर (लखबीर)

कहंदे ने आटे च लून तां चल जांदा है पर लून च आटा नहीं चलदा। अजिही उदाहरण जिले के एक सरकारी मुलाजम ते बिल्कुल सटीक बैठदी है क्योंकि उह जिस भी दफ्तर च गया उसने कम्म नालों वद्ध भ्रष्टाचार ही कीता है। कम्म नालों वद्ध भ्रष्टाचार फैलाउन दे चक्कर च उसनूं जिले दे बहुत सारे दफ्तरों चों बेइज्जती करके बाहर दा रास्ता दिखाया जा चुका है। इस तों अलावा उस लई दफ्तर च दोबारा न आउण लई पूरे प्रबंध भी कीते गए हन। हुण गल्ल करदे हां मुद्दे दी…

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

जलंधर जिले का इह मुलाजम कोई होर नहीं बल्कि साबका रजिस्ट्री कर्लक है। शुरूआत इसने आरसी (रजिस्ट्री कर्लक) तों कीती सी जिथों भी उसनूं बेइज्जत करके रुखस्त कीता गया सी।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

किहड़े-किहड़े दफ्तर चों कीता रुखस्त..

इस मुलाजिम नूं सब तों पहलां फिल्लौर चों जदों एह आरसी हुंदा सी, इसनूं भ्रष्टाचार फैलाउण दे दोषां तहत बाहर दा रस्ता दिखाया गया सी। इस तों बाद इसनूं लाइसैंसां दा कम्म सौंपिया गया, जिथों भी सेवा पानी करके ही बाहर कड्डिया गया सी। इसे तरह कदे फिल्लौर कदे गोराया ते नकोदर अते  फिर दोबारा फिल्लौर चों इसे तरह रुखस्त कीता गया है। अज कल एह जालन्धर च बिराजमान है।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

आदतां ना बदलियां तां इसतों बाद नौकरी खतरे च…

हैरानी दी गल्ल है कि सारे दफ्तरों चों सेवा पानी करवाके बाहर निकलन वाला एह साबका आरसी हुण तक किदां बचदा रिहा है। पर जेकर इसने आपनियां आदतां च सुधार न कीता तां जालन्धर तों बाद इस दी नौकरी खतरे च पै सकदी है क्योंकि इस दीयां आदतां कारण जिले अंदर कोई अजिहा शहर नहीं बचिया जिथे इसदी ऐंट्री हो सकदी होवे।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

आखिर किदां बचदा रेहा, क्यों नहीं होई सख्त कार्रवाई…

शर्म वाली गल्ल है कि कोई मुलाजिम जिथे भी जावे उह भ्रष्टाचार ही फैलाउंदा रहे ते सीनियर अधिकारी उसदी सजा दे तौर ते सिर्फ बदली ही करदे रहे। सवाल है कि आखिर बार-बार दफ्तरों चों बाहर कड्डण तों बाद भी इसनूं नौकरी तों रुखस्त क्यों नहीं कीता गया। जेकर सूत्रां दी मन्निये तां फिल्लौर चों बाहर कड्डण दौरान इक सीनियर अधिकारी ने इसते मेहर भरिया हत्थ रखिया, जिस कारण उसदे वल्लों कीते गए घोटालियां बदले पुलिस नूं शिकायत नहीं कीती गई है ते सिर्फ उसदी बदली ही कर दित्ती गई।

गल्ल अजे बाकी है…

*अगे जानांगे… किवें लाइसैंस बनाउण लई किल्ली ते टंगे कानून

*केहड़े सीनियर अधिकारी दी शह ते करदा सी गलत कम्म

*जादू टूनियां नाल अधिकारियों नूं किवें करदा सी वस्स अते जानांगे होर बोत कुछ….जारी

error: Content is protected !!