बहु करोड़ी शराब घोटाले में कांग्रेसी नेता, विधयाक, मंत्री और अफसर संलिप्त इसलिए ई.डी. को जानकारी नहीं दे रही पंजाब सरकार : सांपला

चंडीगढ़ (ब्यूरो )

पंजाब पुलिस तथा आबकारी विभाग बहु-करोड़ी शराब घोटाले में संलिप्त शराब माफिया तथा कांग्रेस के बड़े नेताओं को बचाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही, यह कहना है पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं पंजाब भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष विजय सांपला का। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह जवाब दें की क्या कारण है कि ई.डी. एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट के बार-बार मांगने पर भी पटियाला, मोहाली तथा लुधियाना में शराब माफिया के खिलाफ दर्ज 13 से ऊपर एफआईआर की कॉपी, सभी नामजद आरोपियों की हिस्ट्रीशीट, बैंक डिटेल, रेवेन्यू, रिकॉर्ड, कॉल डिटेल और पुलिस की अब तक की तफ्तीश का लिखित ब्यौरा ई.डी. को नहीं दिया जा रहा। मनी लॉन्डरिंग का शक होते ही ई.डी. खुद-ब-खुद इन्वेस्टीगेशन शुरू कर सकता है, शराब घोटाला बहु करोड़ी होने के कारण से ई.डी. ने किया भी और उसका पहला कदम था चिट्ठी लिखकर विस्तृत जानकारी लेना। एसएसपी पटियाला को 6 एवं 12 जून को चिट्ठी लिख जानकारी मांगी, एसएसपी मोहाली को 17 जून को लिखा, एसएसपी लुधियाना (ग्रामीण) को 18 जून को लिखा पर अभी तक इनकी तरफ से ई.डी को अभी तक कोई जानकारी नहीं दी गयी। जब जानकारी नहीं दी गयी तो ई.डी के अधिकारी 16 जून को खुद एसएसपी पटियाला को मिले और विस्तृत जानकारी लिखित में देने को कहा पर कोई असर नहीं हुआ। ई.डी ने डीजीपी पंजाब पुलिस को तथा पंजाब सरकार के सैके्रटरी एक्साइज एंड टैक्ससेशन दोनों को पत्र लिख जानकारी मांगी पर कोई जानकारी नहीं दी गयी। इससे स्पष्ट है कि कांग्रेसी नेताओं, विधयाकों, मंत्रिओं और अफसरों के संलिप्त होने के आरोप लग रहे है वो सच है इसीलिए नीचे से ऊपर तक सरकारी अधिकारी ई.डी. को जानकारी नहीं दे रहे। सांपला ने आखिर में कहा कि जहरीली शराब के कारण जहां 120 से ऊपर लोगों की जान चली गयी, वहीं नकली शराब के कारण सरकार के खजाने को करोड़ों रुपये का चुना लगा है और यह सब शराब माफिया, पुलिस, नौकरशाह और उन्हें संरक्षण देने कोंग्रेसी नेताओं, विधायकों और मंत्रिओं के कारण हो रहा है। अगर ऐसा नहीं है तो मुख्यमंत्री पंजाब कैप्टन अमरिंदर सिंह तुरंत आदेश दे सारी जानकारी ई.डी. को भिजवाएं।

 

 

 

 

Congress leader, legislator, minister and officer involved in multi-crore liquor scam, hence E.D. Punjab government is not giving information to: Sampla

Leave a Reply

error: Content is protected !!